कानपुर देहात में युवक की गोली मारकर हत्या

0
309

निशंक न्यूज।

कानपुर देहात: बड़ा गांव औनहां में गेहूं का खेत देखने गए युवक सचिन अवस्थी की सीने में गोली मारकर हत्या कर दी गई। उसका शव खेत के पास ही नाले में सोमवार सुबह पड़ा मिला। घटनास्थल पर एसपी अनुराग वत्स व एएसपी अनूप कुमार ने पहुंचकर जांच की। फोरेंसिक टीम को घटनास्थल पर 315 बोर का एक कारतूस बरामद हुआ है। स्वजनों ने किसी भी दुश्मनी होने से इंकार किया है। दिवंगत परिवार का इकलौता पुत्र था।

बड़ा गांव औनहां निवासी प्राइवेट कर्मी सुरेंद्र कुमार अवस्थी का 24 वर्षीय बेटा सचिन अवस्थी रविवार शाम करीब छह बजे गेहूं के खेत जाने की बात कह घर से निकला था। खेत में बंटाईदार निजामुद्दीन अपने स्वजनों संग गेहूं काट रहा था। लेकिन सचिन खेत में नहीं पहुंचा और रात तक घर भी नहीं लौटा। इस पर स्वजनों ने खोजबीन शुरू की तो पता चला कि उसका मोबाइल घर पर ही रखा है, बंटाईदार से पूछा तो उसने सचिन के खेत आने से इंकार किया। सोमवार सुबह फिर से पिता सुरेंद्र व चाचा सुबोध ने खोजबीन शुरू की तो खेत के पास ही नाले में सचिन का शव पड़ा मिला। इस पर दोनों के होश उड़ गए और रोना पीटना मच गया। हत्यारे ने सचिन के सीने में बायें तरफ गोली मारकर हत्या कर दी थी। एसपी अनुराग वत्स, एएसपी अनूप कुमार, सीओ रामशरण सिंह शिवली पुलिस संग घटनास्थल पर पहुंचे। एसपी ने स्वजनों से बात की तो उन्होंने किसी से दुश्मनी होने के साथ ही किसी पर शक होने से इंकार किया। फोरेंसिक टीम को सचिन के हाथ व गले पर खरोंच के निशान मिले साथ ही मौके पर एक कारतूस बरामद हुआ। एसपी ने बताया कि पुलिस टीम को जल्द खुलासे के निर्देश दिए गए है। स्वजनों ने किसी पर कोई शक नहीं जताया है।

सचिन की हत्या प्रेम प्रसंग में किए जाने का शक है। पुलिस भी इसी बिंदु पर काम कर रही और अपनी जांच आगे बढ़ा रही है। सचिन व उसके स्वजनों का पूरे गांव में किसी से कोई विवाद नहीं है और सचिन भी खेतों की देखभाल में ही दिन गुजारता था। ऐसे में उसकी कोई हत्या कर दे इस पर किसी को विश्वास नहीं हो रहा। जिसके चलते प्रेम प्रसंग में हत्या होने की चर्चा अधिक है।

इकलौते बेटे के जाने से मां साधना का रो रोकर बुरा हाल हो गया। बेटे का शव देखते ही वह गश खाकर गिर पड़ी। पिता सुरेंद्र व चाचा सुबोध को विश्वास नहीं हो रहा था कि घर से सही सलामत निकला बेटा अब इस दुनिया से जा चुका है। इकलौते बेटे के जाने से दुखों का पहाड़ टूट पड़ा।