यूपी में सरकार बनी तो फिर बांटेंगे लैपटापः अखिलेश यादव

0
17

निशंक न्यूज

आजमगढ़। जिस समय हाईस्कूल और इंटर का रिजल्ट आया तो मुझे लगा कि सरकार मेधावी बच्चों का सम्मान करेगी, क्योंकि भाजपा के संकल्प पत्र में लिखा है कि सरकार बनने पर बच्चों को लैपटाप के साथ डेटा भी फ्री देंगे, लेकिन साढ़े चार साल बीतने के बाद भी नहीं दिया। ऐसे में हमने सरकार को याद दिलाने के लिए कुछ बच्चों को लैपटाप देने का फैसला लिया।सरकार बनी तो मेधावी बच्चों को फिर लैपटाप बांटेंगे।

यह बातें पूर्व मुख्यमंत्री एवं सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने गुरुवार को सेहदा स्थित श्री दुर्गा जी इंटर कालेज में छात्र-छात्राओं के सम्मान समारोह में कही।

उन्होंने कहा कि अब सुना हूं कि सरकार टैबलेट बांटने जा रही है, लेकिन उनसे पूछना चाहता हूं कि साढ़े चार साल में आपने इतने दिनों तक कौन सी टैबलेट इन बच्चों को दी।कहा कि नई पीढ़ी नई तरीके से पढ़ाई करना चाहती है। इसीलिए हमने मेधावी बच्चों को लैपटाप देने का फैसला किया था।कोरोना काल में वही लैपटाप बच्चों के पढ़ाई के काम आया।

अखिलेश ने कहा कि हमारे इस फैसले से बाबा सोच में पड़ गए हैं कि कौन आ रहा है ताे कहना चाहूंगा कि हमारा लैपटाप खोल लें, पता चल जाएगा, जिसमें हम और नेताजी ही दिखाई देंगे। प्रदेश की 24 करोड़ लोग भाजपा का सफाया कर देंगे, लेकिन वह चलाना ही नहीं जानते, चलाना जानते तो बांटा होता।

पूर्व सीएम ने कहा कि हमारी सरकार में गांव में बैठे लोगों को इलाज उपलब्ध कराने के लिए 102 और 108 नंबर की एंबुलेंस चलाई गई।100 नंबर पुलिस की व्यवस्था की, ताकि लोगों को तुरंत पुलिस पहुंच जाए। भाजपा सरकार ने उस नंबर को 112 कर दिया, लेकिन पुलिस तो अब भी पहुंच रही है।सरकार केवल नाम बदलना जानती है, शिलान्यास का शिलान्यास और उद्घाटन का उद्घाटन कर रही है।पूर्व सीएम ने कहा कि हमारी सरकार होती, तो पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे देश की सबसे अच्छी सड़क होती, लेकिन भाजपा सरकार ने सड़क को खराब कर दी। इस पर सफर करने वालों को पेट और कमर में दर्द हो जाएगा।यही नहीं मेरी सरकार होती, तो अब तक इसका लोकार्पण हो गया होता। दावा किया कि जिस तरह से हमने आगरा की सड़क पर जहाज उतारा था उसी तरह से सरकार बनने पर पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे पर जहाज उतारने के बाद ही इसका लोकार्पण होगा।उन्होंने किसानों, बेरोजगारों, नौजवानों की समस्याओं के साथ महंगाई पर भी विस्तार से चर्चा की।