प्रापर्टी डीलर मनीष गुप्ता हत्या केस की हाईकोर्ट के जज से कराई जाए जांचः अखिलेश यादव

0
23

बोले-सरकार दबाना चाहती है घटना

वेद गुप्ता

निशंक न्यूज/कानपुर। गोरखपुर से प्रापर्टी डीलर मनीष गुप्ता का शव आने के बाद गुरुवार भोर पहर ही पुलिस प्रशासन ने अंतिम संस्कार करा दिया और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव पूर्वाह्न करीब 11 बजे शहर पहुंच सके। जाजमऊ पुल पर सपाइयों ने उनका स्वागत करने का प्रयास किया लेकिन वह बिना कहीं रुके हुए सीधे बर्रा मनीष के घर पहुंच गए और पीड़ित स्वजन से वार्ता शुरू कर दी है। वह स्वजन से गोरखपुर में हुए पूरे घटनाक्रम की बिंदुवार जानकारी ले रहे हैं। उन्होंने कहा कि सरकार पूरे मामले को दबाना चाहती है, पुलिस ने होटल से सभी सुबूत मिटा दिए हैं। मामले में डीएम और एसएसपी को तत्काल निलंबित किया जाना चाहिये और हाईकोर्ट के सीटिंग जज से मामले की जांच कराई जानी चाहिये। उन्होंने समाजवादी पार्ट द्वारा पीड़ित परिवार को 20 लाख रुपये की आर्थिक मदद दिए जाने का एेलान किया। इसके साथ ही प्रदेश सरकार से पीड़ित परिवार को दो करोड़ रुपये मुआवजा दिए जाने की मांग। घर के बाहर सपाइयों का जमावड़ा लगा हुआ है और बवाल की आशंका के चलते भारी पुलिस फोर्स भी तैनात किया गया है।

गोरखपुर से प्रापर्टी डीलर मनीष गुप्ता का शव बुधवार को कानपुर बर्रा स्थित निवास पर आ गया था। स्वजन शव का अंतिम संस्कार करने की तैयारी कर रहे थे, इस बीच कुछ सपा नेताओं ने स्वजन से मिलकर सपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के आने की जानकारी दी थी। सपा नेताओं ने उनके आने तक शव को रोके रखने की बात कही थी। इसपर स्वजन शाम तक शव को अंतिम संस्कार के लिए नहीं ले गए तो पुलिस व प्रशासनिक अफसर पहुंच गए थे। स्वजन को समझाने का प्रयास किया था लेकिन गुरुवार सुबह ही अंतिम संस्कार करने की बात कही थी। इसके बाद भोर पहर सूरज की पहली किरण फूटते ही पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों ने स्वजन को समझाकर शव भैरवघाट भिजवाकर अंतिम संस्कार करा दिया।

पूर्व सूचना के तहत सपा नेता पूर्व मुख्यमंत्री एवं पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के आने का इंतजार कर रहे थे। पूर्वाहन करीब 11 बजे उनका काफिला जाजमऊ पुल पर पहुंचा तो कार्यकर्ताओं ने रोकने का प्रयास किया। अखिलेश रास्ते में कहीं रुके बिना सीधे पीड़ित परिवार से मिलने बर्रा स्थित आवास पहुंच गए। वह बाहर भी किसी नेता से मिले बगैर सीधे घर के अंदर चले गए और पीड़ित स्वजन से वार्ता शुरू कर दी। वह गोरखपुर में हुई घटना की बिंदुवार जानकारी स्वजन से ले रहे हैं। बाहर सपा नेताओं और समर्थकों की भीड़ जमा है।

सपा नेता सम्राट यादव का आरोप है कि सपा राष्ट्रीय अध्यक्ष के आने की जानकारी होते ही पुलिस ने प्रशासन ने सुबह सूरज निकलने से पहले शव का अंतिम संस्कार जबरन करा दिया है। इसका विरोध करने पर पुलिस से झड़प भी हुई। घर के बाहर सपाई धरने पर बैठ गए थे। इसपर बहन डाली ने धरना खत्म करने की अपील की तो सपा नेता मान गए। सपा विधायक इरफान सोलंकी, अमिताभ बाजपेई, पूर्व मंत्री सुरेंद्र मोहन अग्रवाल, नगर अध्यक्ष डॉ इमरान सहित अन्य सपा नेता मौजूद रहे।

सपा प्रवक्ता अनुराग भदौरिया ने ट्वीट कर प्रदेश की भाजपा सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने लिखा कि जब रक्षक ही भक्षक बन जाएंगे फिर कौन बचायेगा, यूपी मे अपराधियों का राज चल रहा है। अगर गुंडों से बचोगे तो चेकिंग के नाम पर पुलिस पीटकर मार देती है, गोरखपुर की घटना ताज़ा उदाहरण है। इसके पहले विवेक तिवारी के साथ भी यही हुआ था।