फिरोजाबाद में डेंगू से 48 घंटे में 12 और मौत, 175 पहुंचा मरने वालों का आंकड़ा

0
12

कानपुर और आगरा से आए 4 डॉक्टर, डीएम बोले- जल्द सुधरेंगे हालात

निशंक न्यूज

फिरोजाबाद। फिरोजाबाद में डेंगू और वायरल बुखार का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा है। 48 घंटों में 12 और मरीजों की डेंगू से मौत हो गई। शुक्रवार को 5 मरीजों ने डेंगू से दम तोड़ दिया। जबकि शनिवार को 7 लोगों की जान चली गई। मरने वालों का आंकड़ा 175 पहुंच गया है। उधर, डेंगू के नियंत्रण के लिए संचारी रोग निदेशक डॉ. गिरिजा शंकर के नेतृत्व में टीम को भेजा गया है। मेडिकल कॉलेज में मरीजों को भर्ती करने के लिए 550 बेड की व्यवस्था की गई है। साथ ही इलाज के लिए 70 डॉक्टरों को लगाया गया है।

आगरा और कानपुर से चार डॉक्टर और भेजे आए हैं। जिनमें कानपुर मेडिकल कॉलेज के बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. यशवंत और डॉ. सौरव कुमार, एसएन मेडिकल कॉलेज आगरा के डॉ. नीरज यादव और फिजिशियन डॉ. टीपी कुमार हैं। डीएम चंद्रविजय ने बताया किबिगड़े हालातों को काबू करने के पूरे प्रयास जारी हैं। डॉक्टरों की टीम गांव-गांव जाकर कैंप कर रही हैं, जल्द ही हालात सुधरेंगे।

करबला की रहने वाली शगुन (13) और छाया (10) पुत्री सुनील कुमार, बघेल कॉलोनी के अजय (7) पुत्र विपिन, मालवीय नगर के कृष्णा (5) पुत्र मनसुख, कश्मीरी गेट की अन्मता (7) पुत्री प्रवेश, भरतनगर की इशिका (12) पुत्री राजकुमार, कोटला सराय के अनुज (7) पुत्र तेजप्रताप की डेंगू से मौत हो गई।

इसके अलावा बनवारा जसराना के प्रशांत (8) पुत्र गौरव, रूपसपुर की रेखा (40) पत्नी लक्ष्मण सिंह और रामसिया (60) पत्नी सतीश बघेल, मक्खनपुर जरारी के प्रवेंद्र बघेल (23), गढ़ी सिधारी नारखी की दिव्या (5) पुत्री हरिश्चंद्र की भी डेंगू और वायरल बुखार से मौत हो गई। इनमें 7 लोगों की मौत प्राइवेट हॉस्पिटल, 3 की मेडिकल कॉलेज और 2 लोगों की मौत घर पर हुई है।

डेंगू को लेकर अब तक की गतिविधियां

18 अगस्त को डेंगू से पहली मौत

29 अगस्त तक 56 बच्चों और युवाओं की मौत

30 अगस्त को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का आगमन

31 अगस्त को आठवीं तक के स्कूल 7 दिसंबर तक बंद करने के आदेश

1 सितंबर को सीएमओ डॉ. नीता कुलश्रेष्ठ को हटाया। डॉ. दिनेश कुमार प्रेमी को तैनाती दी

1 सितंबर को एपेडिमिक इंटेलीजेंस और वेक्टर बार्न डिजीज की दो टीम और डॉक्टर पहुंचे

2 सितंबर अर्बन हेल्थ सेंटर के 2 प्रभारी बर्खास्त और पब्लिक हेल्थ एक्सपर्ट के निलंबन की संस्तुति

3 सितंबर नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल की 5 सदस्यीय टीम दिल्ली से आई

4 सितंबर को यूपी सरकार के प्रमुख सचिव चिकित्सा व नोडल अधिकारी पहुंचे

8 सितंबर को केजीएमजी के बाल रोग विशेषज्ञ एसएन सिंह आए

9 सितंबर को नगर निगम के स्वास्थ्य अधिकारी को निलंबित किया

10 सितंबर को घर-घर जाकर पानी निकालने का काम शुरू किया

11 सितंबर को गंबूजिया मछलियों को तालाबों में छोड़ा गया

12 सितंबर से लगातार क्षेत्र में स्वच्छता को लेकर अभियान चलाए जा रहे हैं