बसपा ने बिठूर से रमेश यादव को उतारा मैदान में

0
60

जल्द घोषित किए जाएंगे 5 प्रत्याशी

वेद गुप्ता

निशंक न्यूज/कानपुर। बसपा ने यूपी में पहले प्रत्याशी की घोषणा करते हुए रमेश यादव को बिठूर से उम्मीदवार के तौर पर उतारा गया है। जातीय संतुलन साधने में लगी बसपा में 5 और सीटों को जल्द घोषित कर दिया जायेगा। पार्टी में पहले चरण में ब्राह्मण, मुस्लिम, यादव और एससी/एसटी चेहरे सामने आये है। प्रदेश में पार्टी ने सबसे पहले प्रत्याशी की घोषणा कानपुर की बिठूर विधानसभा से की है। पार्टी में आज कार्यक्रम आयोजित कर बसपा में जोश भरने का कार्य कार्य किया गया। सेक्टर प्रभारी नौशाद अली और भीमराव अंबेडकर की उपस्थित में रमेश यादव को विधानसभा के प्रत्याशी घोषित किया गया।

बहुत जल्द विधानसभा भोगनीपुर से मुस्लिम प्रत्याशी के रूप में जुनैद पहलवान रहेंगे। बिल्हौर में मनोज दिवाकर को पार्टी ने अपना प्रत्याशी बनाया है। जबकि पूर्व में कमलेश दिवाकर बसपा से चुनाव लड़े थे। लेकिन उनके सपा में शामिल हो जाने के बाद पार्टी ने धोबी समाज के वोट को बचाने के लिए मनोज दिवाकर को अपना प्रत्याशी बनाया है ।

इसी तरह घाटमपुर सुरक्षित सीट है, वहां से एक वर्तमान ब्लॉक प्रमुख पर पार्टी दांव लगाने का मन बना चुकी है। इन सभी प्रत्याशियों के नाम की घोषणा मात्र होना बाकी रह गई है। बसपा में टिकट मिलने की जो भी अनिवार्यतायें है वह प्रत्याशियों द्वारा लगभग पूरी कर ली गयी है। कानपुर देहात की सिकन्दर से ब्राह्मण प्रत्याशी लाल जी शुक्ला को मैदान में उतारा गया है। इटावा के भर्थना से कमलेश अंबेडकर को प्रत्याशी बनाया गया है।

बसपा का अपना पुराना रिकॉर्ड रहा है, कि वह सबसे पहले प्रत्याशी मैदान में उतारती है। पार्टी के रिकॉर्ड में यह भी शामिल है, कि चुनाव के ठीक पहले कई प्रत्याशी बदल भी देती है। इसी क्रम में पार्टी ने आज पहले प्रत्याशी की घोषणा कानपुर में एक बैठक के दौरान की। बिठूर विधानसभा से बसपा के पुराने विश्वासपात्र रमेश यादव चुनाव लड़ेंगे। आपको बता दें रमेश यादव बसपा के 2008 से कार्यकर्ता रहे हैं। इनको मंडल स्तर की कई तरह की पार्टी में जिम्मेदारी भी सौंपी जा चुकी है।

रमेश की पत्नी सहित परिवार के सदस्य ग्राम प्रधानी से लेकर जिला पंचायत तक में चुने जा चुके हैं। इसी तरह पार्टी ने बिल्हौर विधानसभा में मनोज दिवाकर को अपना प्रत्याशी घोषित करने का निर्णय लिया है। अब मनोज दिवाकर यहां से विधानसभा की तैयारी में जुट गए हैं। कानपुर देहात की महत्वपूर्ण विधानसभा भोगनीपुर में बसपा ने मुस्लिम प्रत्याशी जुनेद पहलवान को अपना उम्मीदवार बनाया है। जुनैद पहलवान पर कई अपराधिक मुकदमे भी हैं। यह निर्दलीय चुनाव लड़ चुके हैं जिसमें इनको लगभग 20 हजार वोट मिले थे।

जुनैद पहलवान की माँ अमरोहा नगर पालिका से दो बार चेयरमैन रह चुकी हैं। विधानसभा घाटमपुर जो कि सुरक्षित सीट है। यहां से पार्टी एक वर्तमान ब्लाक प्रमुख को अपना प्रत्याशी बना चुकी है। आपको बता दें कि कानपुर नगर में 10 ब्लॉकों में 7 भाजपा के खाते में है। 3 ब्लॉक प्रमुख में सपा ने जीत दर्ज की है। इन्हीं 10 ब्लॉक प्रमुखों में से एक ने बसपा से चुनाव लड़ने का मन बना लिया है।

इसकी घोषणा पार्टी के द्वारा बहुत जल्द की जाएगी। कानपुर देहात के सिकंदरा विधानसभा सीट में ब्राह्मण प्रत्याशी को उतारकर बसपा ने साफ संकेत दिया है कि ब्राह्मणों के लिए उसके पार्टी में पूरा सम्मान है। लालजी का पारिवारिक बैकग्राउंड भी राजनीतिक रहा है। इनके भाई विधायक और मंत्री रह चुके हैं। लाल जी शुक्ला मूलता औरैया के रहने वाले हैं। इटावा की भर्थना सीट पर पार्टी के मंडल स्तर की जिम्मेदारी संभालने भीमराव अंबेडकर की पत्नी कमलेश अंबेडकर को प्रत्याशी बनाया गया है।