गोरखपुर में सीएम योगी ने किया 370 परियोजनाओं का लोकार्पण-शिलान्यास

0
29

बोले, सुरक्षा में सेंध लगाने वालों को चुकानी होगी कीमत

निशंक न्यूज

गोरखपुर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बड़ी घटनाओं को टालने के लिए जनता और जनप्रतिनिधियों को सजग रहने की सलाह देते हुए कहा कि सुरक्षा में सेंध लगाने वालों को कीमत चुकानी पड़ेगी। पिछले दिनों की दो घटनाओं का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि समाज विरोधी, देश विरोधी कृत्य करने वालों के मंसूबों को कतई पूरा नहीं होने दिया जाएगा।

नगर निगम क्षेत्र की 370 परियोजनाओं के लोकार्पण-शिलान्यास अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि अच्छा प्रतिनिधित्व चुनेंगे तो विकास होगा। सरकारें पहले भी थीं लेकिन लूट खसोट, अराजकता थी। आज विकास की योजनाओं का लाभ गरीब को सीधे मिल रहा है। स्ट्रीट वेंडर्स पहले शोषण का शिकार होता था,आज शासन की योजनाओं से लाभान्वित हो रहा है।

दो दिवसीय दौरे पर मंगोरखपुर पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 93.89 करोड़ रुपये की परियोजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास किया। गोरखपुर क्लब में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सीएम योगी ने कहा कि हाल के दिनों में दो बड़ी घटनाओं का पर्दाफाश हुआ। पहली दिल्ली के बाटला हाउस से संचालित मतांतरण की साजिश थी जिसके तहत मूक-बधिर बच्चों को जेहादी कार्यों में शामिल कर देश की सुरक्षा में सेंध लगाने की तैयारी थी। हमारी सरकार ने समय रहते इसे बेपर्दा किया।

दूसरी पाकिस्तान परस्त आतंकियों द्वारा आजादी के जश्न के बीच लखनऊ में बड़ी वारदात को अंजाम देने की तैयारी थी। ह्यूमन इंटेलीजेंस यानी जनता ने आतंकियों की संदिग्ध गतिविधियों की जानकारी दी और बाकी का काम हमारे सुरक्षाकर्मियों ने पूरा कर दिया। बम जाति और मजहब नहीं देखता है। हमारी सुरक्षा में सेंध लगा वालों को हर हाल में कीमत चुकानी पड़ेगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सुरक्षा एजेंसियां तो अपना काम कर रही हैं, हमारा भी दायित्व है कि हम अपने आसपास की गतिविधियों पर नजर रखें। जनता खुद संदिग्ध गतिविधि वालों की सूचना सुरक्षाकर्मियों को दे। पार्षद, ग्राम पंचायतों के सदस्य इसमें प्रमुख भूमिका निभा सकते हैं। सुरक्षा के मुद्दे पर प्रदेश के 24 करोड़ नागरिक हमारी जिम्मेदारी हैं।

मुख्यमंत्री ने कोरोना संक्रमण काल के हालात का भी जिक्र किया। विपक्षी दलों का नाम लिए बगैर उन्होंने कहा कि कुछ लोग ऐसे भी थे जो कोरोना के आते ही क्वारंटाइन हो गए। किसी का हाल-चाल जानने भी नहीं निकले, लेकिन बैठे-बैठे टिप्पणियां करते रहे। लेकिन ऐसे लोग भी थे जिन्होंने अपनी जान की परवाह किए बगैर वार्ड के एक-एक व्यक्ति की सुधि ली और उनका हाल-चाल लेते रहे। जनता ने तब महसूस किया होगा कि उनका चुनाव सही था। जो व्यक्ति संकट के समय में हमारा हाल जान रहा है, इसका मतलब हमने सही चुनाव किया था।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अच्छा प्रतिनिधि चुनेंगे तो विकास के पैसे का सही इस्तेमाल होगा। सरकारें पहले भी थीं, पैसा पहले भी था लेकिन पहले लूट-खसोट और बंदरबांट के साथ ही अराजकता ज्यादा थी। आज वही सिस्टम है केवल कुछ चेहरे बदले हैं और वही सिस्टम विकास की योजनाओं का बेहतर लाभ आम जनमानस को दे रहा है।