कहीं अभिभावक तो कहीं बेरहम बनी पुलिस कानपुर।

0
538

कानपुर। उत्तर प्रदेश पुलिस के दो चेहरे आज कुछ घंटों में ही सामने आ गए कहीं मुख्यमंत्र योगी आदित्यनाथ की पुलिस अभिभावक बनकर खड़ी हुई तो कहीं पुलिस का बेहरम चेहरा सामने आया। दोनों ही स्थानों पर पुलिस के यह काम आम लोगों के बीच चर्चा में बने रहे एक जिले में पुलिस के काम को सराहा गया तो दूसरी जगह जनता ने हाईवे जाम कर पुलिस मुर्दाबाद के नारे लगाए।

यह दोनों जनपद हैं औरैय्या और इटावा। दोनों ही जनपद अगल-अगल हैं लेकिन दोनों जनपदों की पुलिस का बर्ताव एकदम विपरीत देखने को मिला। एक स्थान पर अधिकारी व पुलिस की सराहना हो रही है तो दूसरी जगह थाना पुलिस पर कार्रावाई की तैयारी की जा रही है।

पहले बात करते हैं औरैय्या पुलिस की जहां पुलिस के व्यवहार की निशंक न्यूज भी सराहना करता है और उम्मीद करता है कि यहां की पुलिस के व्यवहार का अनुसरण दूसरे जनपद की पुलिस भी करे। हुआ यह कि औरैय्या जनपद के कोतवाली थानाक्षेत्र में कई लोग अपनी शिकायत लेकर पहुंचे थे इनमें एक मासूम बच्चा व उसकी मां भी शामिल थीं। जो यहीं के गांव पढ़ीन दरवाजा के रहने वाले थे। स्कूल ड्रेस पहने बच्चे में मासूम भरे लहजे में दरोगा प्रवेंद्र कुमार से कहा कि अंकल मेरी मदद करो पिता जी उसकी मम्मी को बहुत मारते हैं रात में भी पापा ने मारा पीटा था इस कारण वह रात में भी भूखा ही सो गया बहुत भूख लगी है। यह सुनकर दरोगा भावुक हो गए और अभिभावक की तरह बच्चे को दुलराकर तुरंत ही पास खड़े सिपाही से बच्चे की पसंद का खाना लाने को कहा । इसके बाद पुलिस ने बच्चे को प्यार से बिठाकर भरपेट खाना खिलवाया फिर उसकी मां की पूरी बात सुनकर भरोसा दिया कि अब पापा को समझाया जाएगा कि वह मारपीट न करें और शराब पीना छोड़ दें। पुलिस का यह रूप देख थाने पर मौजूद सभी लोग पुलिस की सराहना करने लगे।

दूसरी तरफ औरैय्या के पड़ोसी जिले इटावा में पुलिस का बेरहम चेहरा सामने देखा गया। यहां पुलिस ने एक शिकायत पर युवक को इतना पीटा कि उसकी मौत हो गयी। जिससे पुलिस की वर्दी दागदार हो गई।

एक बार फिर पुलिस के कुछ लोगों ने खाकी को दागदार कर दिया। कुछ ऐसा हुआ कि पुलिस के खिलाफ लोगों को सड़क पर आना पड़ा। इन लोगों ने पुलिस के खिलाफ नारे लगाते हुए जाम लगा दिया। खाकी में दाग लगने का मामला हुआ इटावा के जसवंत नगर थानाक्षेत्र में। पुलिस अधिकारी नाराज लोगों को समझाने का प्रयास करते रहे।

जानकारी लोगों की मानी जाए तो इटावा के जसवंतनगर थानाक्षेत्र में रहने वाली एक महिला ने पिछले दिनों अपने देवर पर ही मारपीट करने का आऱोप लगाया था। महिला के पक्ष में कुछ लोगों ने पैरवी भी कर दी क्योंकि देवर पर आरोप लगाने वाली महिला पूर्व प्रधान की बहू है। इस पर महिला से होने वाले अपराध के प्रति गंभीर रुख अपनाते हुए पुलिस ने पूर्व प्रधान के पुत्र नितिन को हिरासत में ले लिया। परिजनों का आरोप है कि सख्ती दिखाते हुए कुछ पुलिस वालों ने थाने में नितिन को बुरी तरह पीटा जिससे उसकी हालत बिगड़ गई।

मामला बढ़ता देख पुलिस ने परिजनों को बुलाकर नितिन को उनके हवाले कर दिया। परिजन घायल नितिन को पहले सैफई मे़डिकल कालेज फिर आगरा ले गये लेकिन नितिन की शनिवार को मौत हो गई। इससे गुस्साए परिजनों ने नितिन के शव को रखकर जमुनाबाग हाइवे पर जाम लगा दिया। समाचार लिखे जाने तक पुलिस अधिकारी नाराज लोगों को समझाकर जाम खुलवाने का प्रयास कर रहे थे।

प्रभात तिवारी

निशंक न्यूज