झांसी पहुंचे सीएम योगी, कहा- अब यूपी में एक जून से सभी 75 जिलों में चलेगा टीकाकरण अभियान

0
106

निशंक न्यूज

झांसी। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रविवार को झांसी और बांदा के दौरे पर हैं। झांसी पहुंचने पर उन्होंने इंटीग्रेटेड कोविड कमांड सेंटर का निरीक्षण कर अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। योगी ने कहा कि यूपी सरकार अब एक जून से सभी 75 जिलों में कोरोना के लिए टीकाकरण अभियान चलाएगी। अभी तक सिर्फ 18 से 44 वर्ष तक के लिए कमिश्नरी और 23 जिलों में ही टीकाकरण कराया जा रहा था।

झांसी में अधिकारियों के साथ बैठक के बाद सीएम ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान यह बातें कही। योगी ने कहा कि देश की सबसे बड़ी आबादी का राज्य उत्तर प्रदेश है। हम अपने जनप्रतिनिधियों, प्रशासनिक टीम, हेल्थ वर्कर्स, कोरोना वॉरियर्स और जनता के सहयोग से मजबूती से लड़ रहे हैं। उसी का परिणाम भी हमारे सामने हैं।

योगी ने कहा कि प्रदेश में सेकेंड वेब के बारे में कहा जाता था कि प्रदेश सबसे बड़ा समस्याग्रस्त प्रदेश बन जाएगा। 25 अप्रैल से 10 मई के बीच प्रदेश में 1 लाख केस प्रतिदिन आएंगे, लेकिन सरकार ने सफलतापूर्वक इसको फेस किया और ये समस्या नहीं आने दी। फर्स्ट वेब और सेकेंड वेब में कुछ अंतर था। फर्स्ट वेब में हमें ऑक्सीजन की किल्लत नहीं हुई। लेकिन सेकेंड वेब में जितना तेज संक्रमण था, उतनी तेजी से ऑक्सीजन आपूर्ति की मांग भी बढ़ी। यही सरकार के लिए क्राइसिस बन गई।

योगी ने कहा कि बुंदेलखंड के दौरे पर आया हूं। झांसी के साथ ललितपुर और जालौन की समीक्षा बैठक की है। सभी ने कोरोना से लड़ने में अच्छा प्रयास किया है। उनके परिणाम हैं कि पॉजिटिविटी रेट यहां कम हुए हैं। ग्रामीण क्षेत्र में निगरानी समितियों द्वारा भी अच्छा कार्य किया जा रहा है। जब कोविड का पहला केस आया था तो हमारे पास कोई सुविधा नहीं थी। कोई टेस्टिंग की व्यवस्था नहीं थी। लेकिन आज 3 लाख 17 टेस्ट करके हमने देश मे सर्वाधिक का रिकॉर्ड बनाया है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ झांसी के बाद करीब 2 बजे बांदा पहुंचेंगे। बांदा में भी उनका कोविड कंट्रोल कमांड सेंटर का दौरा करेंगे। जिले में निरीक्षण की शुरुआत विकासभवन में संचालित इंटीग्रेटेड कमांड सेंटर से करेंगे।

यहां पर करीब 20 मिनट तक रहकर इसके संचालन व मरीजों को मिल रही सुविधाओं आदि की तहकीकात करेंगे। इसके बाद सीएम योगी आदित्यनाथ सर्किट हाउस में महामारी से निपटने के लिए अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों के साथ मंथन करेंगे। वह टीकाकरण की स्थिति का जायजा लेने के बाद किसी गांव में जाकर स्थलीय निरीक्षण भी करेंगे।