गलती हो तो स्वीकार लो न हो तो पूरी बात रखो

0
330

हम लोगो का जीवन ही ऐसा हैं की तमाम प्रयास करने के बाद भी गलती हो हे जाती हैं लेकिन इस बात का हमेशा ध्यान रखे की अगर गलती हो तो उसे स्वीकार करने से कोई छोटा नही हो जाता बल्कि इसे सुधारने से संतुस्ती ही मिलती हैं इस लिए अगर गलती हो जाये तो इसे कोई तर्क दिए बगैर स्वीकार कर इसे सुधरने का प्रयास करे लेकिन अगर आपकी गलती नही हैं तो सामने वाला कोई  भी हो उसके दबाव में ना आये और अपनी पूरी बात  जोरदारी से रखे अगर  आप अपना पक्ष भी नही रख सकेगे तो लम्बे समय तक यह बात आपको कुरेदती रहेगी की आप अपनी बातर भी नही राखज सके और बेवजह की जलालत झेलनी पड़ी