बाबूपुरवा में किशोर की हत्या कर शव जलाने का प्रयास, रेलवे ट्रैक पर मिला अधजला शव

0
108

वेद गुप्ता /प्रभात त्रिपाठी
निशंक न्यूज़

कानपुर। बाबूपुरवा में किशोर की गला घोटकर हत्या कर दी गई। हत्यारों ने शिनाख्त मिटाने के लिए शव को जलाने का प्रयास किया। शनिवार को रेलवे ट्रैक किनारे शव मिलने पर स्वजन पहुंचे। सूचना पर पुलिस, डॉग स्क्वाड, फॉरेंसिक टीम घटनास्थल पहुंची और साक्ष्य जुटाए हैं। पुलिस ने स्वजन की तहरीर पर हत्या का मुकदमा दर्ज कर आरोपितों की तलाश शुरू की है।

मुंशीपुरवा निवासी जावेद का 14 वर्षीय बेटा मोइज्जम कक्षा नौ का छात्र था। शुक्रवार को रोजा खोलने के बाद दो साथियों के साथ घर से निकला था, लेकिन वापस नहीं लौटा। इस पर स्वजन ने मोइज्जम की तलाश शुरू की। कुछ पता न चलने पर परिचितों ने इंटरनेट मीडिया के माध्यम से उसकी फोटो के साथ लापता होने की सूचना वायरल की। बड़े भाई हरम ने बताया कि शनिवार की सुबह बेगमपुरवा मेमो शेड अधजला शव औंधे मुंह रेलवे ट्रैक किनारे पड़ा देखकर लोगों ने स्वजन को सूचना दी। स्वजन ने कंट्रोल रूम को सूचना देने के बाद घटनास्थल पहुंचकर शव की पहचान की। सूचना पर डॉग स्क्वाड और फॉरेंसिक टीम घटनास्थल पहुंची और पड़ताल शुरू की। छानबीन में रस्सी से गला घोंटकर हत्या किए जाने की पुष्टि हुई है। पिता का आरोप है कि एक सप्ताह पूर्व बेटे का कुछ लोगों से विवाद हुआ था। उन्हीं लोगों ने बेटे की हत्या की है। पिता ने घर से साथ ले जाने वाले दोनों साथियों पर शक जताया है। डीसीपी साउथ रवीना त्यागी ने बताया कि पिता की तहरीर पर हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया है। आरोपितों की तलाश की जा रही है। जल्द मामले का राजफाश किया जाएगा।

नायलॉन की रस्सी से घोंटा था गला: फॉरेंसिक एक्सपर्ट के मुताबिक हत्यारों ने शव की पहचान मिटाने के लिए शव को जलाने का प्रयास किया था। आग से उसके कपड़े जल गए थे। वहीं नायलॉन की रस्सी से गला घोंटा गया था। शव की बारीकी से पड़ताल करने पर नायलॉन की रस्सी आग में जलने के बाद उसके गले में चिपकी हुई मिली है। जिससे साफ है कि हत्यारों ने नायलॉन की रस्सी से उसका गला घोंटकर हत्या की है।

कई बिंदुओं पर पुलिस कर रही छानबीन: थाना प्रभारी बाबूपुरवा देवेंद्र विक्रम सिंह ने बताया कि हत्या के पीछे के कारणों के लिए कई बिंदुओं पर छानबीन की जा रही है। जिसमें विवाद, पुरानी रंजिश, छेड़छाड़, लेनदेन आदि शामिल हैं। आरोपितों की गिरफ्तारी के बाद ही सही कारण स्पष्ट हो सकेगा। आरोपितों की धर पकड़ के प्रयास किए जा रहे हैं।