फतेहपुर में कोहरे में टकराए ट्रक व डंपर, दोनों चालकों की मौत

0
173

गुरुवार तड़के हुआ हादसा, दो घंटे जाम रहा हाईवे

निशंक न्यूज।

फतेहपुर। ललौली थानाक्षेत्र के दतौली गांव के समीप बांदा-टांडा स्टेट हाईवे पर गुरुवार तड़के कोहरे के बीच मौरंग लदे ट्रक व खाली डंपर में सीधी भिड़ंत हो गई। इससे दोनों चालकों की मौके पर ही मौत हो गई जबकि ट्रक का खलासी गंभीर रूप से घायल हो गया। उसे कानपुर के एलएलआर अस्पताल (हैलट) रेफर किया गया है। हादसा इतना भयावह था कि दोनों गाडिय़ों के परखचे उड़ गए और केबिन में फंसे चालकों को कटर मशीन से बाहर निकालना पड़ा। दो घंटे बाद क्रेन से दोनों दुर्घटनाग्रस्त वाहनों को हटवाया गया।

बाराबंकी जिले के असंधरा के नूरपुर गांव निवासी बदरुद्दीन का 25 वर्षीय पुत्र मैनुलउद्दीन (ट्रक चालक) खलासी शब्बीर अली के साथ मौरंग लादने बांदा गया था। वहां से वह गुरुवार तड़के मौरंग लादकर बाराबंकी जा रहा था। उधर, 20 वर्षीय डंपर चालक अंकुल चौहान पुत्र अर्जुन चौहान निवासी चांदपुर थाना रामनगर जिला बाराबंकी भी अपने खलासी के साथ मौरंग लादने बांदा जा रहा था। तड़के साढ़े चार बजे कोहरा होने से दतौली गांव के समीप ट्रक व डंपर की सीधी भिड़ंत हो गई। हादसा इतना जबरदस्त था कि दोनों वाहनों के चालक व ट्रक का खलासी केबिन में फंस गए। सूचना पर पीआरवी टीम के साथ पहुंचे एसओ प्रदीप यादव ने क्रेन व कटर मशीन मंगवाई।

कटर मशीनों से केबिन काट कर उसमें फंसे ट्रक चालक मैनुलउद्दीन व डंपर चालक अंकुल चौहान को बाहर निकाला पर तब तक दोनों दम तोड़ चुके थे। वहीं ट्रक क्लीनर शब्बीर अली को पहले गंभीर हालत में सदर अस्पताल भेजा गया, जहां से हैलट रेफर कर दिया गया। इस बीच करीब दो घंटे तक बांदा-नेशनल हाईवे जाम रहा। एसओ ने बताया कि क्रेन से दोनो गाडिय़ों को किनारे कराया गया। बताया कि डंपर का खलासी गाड़ी से कूदकर फरार हो गया। मृतकों के पास से मिले मोबाइल से स्वजनों को सूचना देकर इनकी शिनाख्त की गई। कहा कि स्वजनों के आने का इंतजार किया जा रहा है।

बांदा-टांडा स्टेट हाईवे में ट्रक व डंपर की भिड़ंत हो जाने के बाद ट्रकों व अन्य वाहनों की कतार लग गई। बांदा से आने वाले ओवरलोड गिट्टी व मौरंग लदे ट्रक हाईवे किनारे खड़े होकर जाम खुलने का इंतजार कर रहे। वहीं फतेहपुर से बांदा जाने वाले ट्रक किनारे खड़े रहे। साढ़े सात बजे क्षतिग्रस्त गाडिय़ों के क्रेन से हटाने के बाद धीरे धीरे गाडिय़ों को निकाला गया, तब जाकर यातायात बहाल हो सका।