मुख्तार अंसारी की पत्नी की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में 9 अप्रैल को सुनवाई

0
35

निशंक न्यूज

लखनऊ । उत्तर प्रदेश के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी की पत्नी अफशां अंसारी ने अपने पति की सुरक्षा के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। अफशां अंसारी की याचिका पर नौ अप्रैल को सुनवाई होने की संभावना है। न्यायमूर्ति अशोक भूषण की अध्यक्षता वाली खंडपीठ के समक्ष मामले को सुनवाई के लिए सूचीबद्ध किया गया है। याचिका में उन्होंने पति के जीवन के लिए गंभीर खतरा होने का बात कही है। बता दें कि मंगलवार को उत्तर प्रदेश पुलिस पंजाब के रोपड़ जिले की रूपनगर जेल से अंसारी को यूपी की बांदा जेल शिफ्ट कर दिया है। उसे बुधवार सुबह साढ़े चार बजे बांदा मंडल कारागार में दाखिल करा दिया गया है।

मुख्तार अंसारी की पत्नी अफशां अंसारी ने जान को खतरे की आशंका जताते हुए कोर्ट से सुरक्षा देने की मांग की है। याचिका में कहा है कि उसके पति एक राजनीतिज्ञ हैं और वे सत्ताधारी दल के खिलाफ चुनाव लड़ कर जीते हैं जिससे काफी राजनीतिक प्रतिद्वंद्विता है। यह भी कहा है कि उसके पति कई ऐसे मामलों में गवाह हैं जिसमे सत्ताधारी दल के प्रभावी लोग अभियुक्त हैं।

उन्होंने का कि उनके पास सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल करने के अलावा कोई रास्ता नहीं बचा है क्योंकि कोर्ट के मुख्तार अंसारी को पंजाब से उत्तर प्रदेश स्थानांतरित करने के आदेश के बाद भी अंसारी को मारे जाने के बारे में सोशल मीडिया पर कई खबरें चलीं। ऐसे में उनकी जान को गंभीर खतरा है। मांग की गई है कि कोर्ट उत्तर प्रदेश सरकार और उत्तर प्रदेश पुलिस व जेल सुपरिंटेंडेंट को निर्देश दे कि वह अंसारी को सुरक्षा दे और अंसारी को स्वतंत्र और निष्पक्ष सुनवाई का मौका दिया जाए। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने 26 मार्च को उत्तर प्रदेश सरकार की याचिका स्वीकार करते हुए मुख्तार अंसारी को पंजाब के रोपड़ जिले की रूपनगर जेल से बांदा जेल स्थानांतरित करने का आदेश दिया था। शीर्ष अदालत ने अपने आदेश में अंसारी को उत्तर प्रदेश की बांदा जेल में स्थानांतरित करने के लिए दो सप्ताह का समय दिया था।कोर्ट ने पंजाब सरकार को निर्देश दिया था कि वह मुख्तार अंसारी को उत्तर प्रदेश को सौंपे जिसे बांदा जेल में रखा जाएगा। कोर्ट के आदेश पर मुख्तार अंसारी को पंजाब से उत्तर प्रदेश लाया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here