फर्जी अभिलेखों से नौकरी पाए 38 शिक्षकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने के आदेश

0
10

फर्जी अभिलेखों से नौकरी पाने वालों में सपा एमएलसी का भाई भी शामिल

निशंक न्यूज

इटावा। एसआइटी और जनपद स्तरीय जांच समिति की जांच में शैक्षिक अभिलेखों के फर्जी मिलने पर शासन द्वारा मुकदमा दर्ज न कराए जाने पर गंभीर रुख अपनाने के बाद 38 शिक्षकों पर मुकदमा दर्ज कराने के निर्देश जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने दिए हैं। फर्जी शिक्षकों में सपा एमएलसी का भाई भी शामिल है।

जनपद में बीएड मार्कशीट के फर्जी होने और अंकों में हेराफेरी करने और टीईटी मार्कशीट के जिला स्तरीय समिति और एसआइटी टीम द्वारा की गई जांच में फर्जी मिलने पर सेवा से बर्खास्त शिक्षकों के विरूद्ध मुकदमा दर्ज न कराए जाने से न्यायालय से राहत ले आने के मामले सामने आने के बाद शासन ने गंभीर रुख  अपनाया है। इसी को लेकर जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कल्पना सिंह ने सभी खंड शिक्षा अधिकारियों को अपने-अपने ब्लाक के फर्जी शिक्षकों पर मुकदमा दर्ज कराने के निर्देश दिए गए हैं। इनमें 28 शिक्षक एसआइटी जांच और 10 शिक्षक जिला स्तरीय टीम की जांच में फर्जी मिले थे। इन सभी पर अब मुकदमा दर्ज कराने की कार्रवाई की जा रही है। इन शिक्षकों में महिला शिक्षक भी शामिल है। साथ ही सपा एमएलसी अरविंद यादव का भाई नरेंद्र यादव भी शामिल है। जिसकी नियुक्ति विकास खंड ताखा के वंशियापुर प्राथमिक विद्यालय में है। इस संबंध में खंड शिक्षा अधिकारी अवनीश कुमार ने बताया कि सभी फर्जी पाए गए शिक्षकों के विरूद्ध मुकदमा दर्ज कराने के लिए प्रार्थना पत्र पुलिस को दे दिए गए हैं। बीएसए कल्पना सिंह ने बताया कि चकरनगर, ताखा व जसवंतनगर, सैफई, भरथना, बढ़पुरा ब्लाक में एफआइआर दर्ज कराई जा रही है। यह सभी शिक्षक वर्ष 2004 की आगरा विश्वविद्यालय की फर्जी बीएड मार्कशीट व टीईटी की फर्जी मार्कशीट वाले हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here