अपने चरित्र की चिंता कीजिये

0
557

अपने चरित्र की चिंता कीजिये, प्रतिष्ठा की नहीं। आपका चरित्र आप हैं और आपकी प्रतिष्ठा वह है जो अन्य आपको समझते हैं।

आपका दिन शुभ हो