बिकरु गांव में हुआ सत्ता परिवर्तन, जानिए कौन हटाए गए

0
169

बिकरु गांव और भीटी गांव में प्रधान हटाए गए

शूटआउट के बाद से ठप थे काम, गैंगस्टर विकास दुबे के खौफ से मिली थी प्रधानी

सुजीत सिंह

निशंक न्यूज/कानपुर कानपुर में चौबेपुर थाना क्षेत्र के बिकरु गांव में बीते दो जुलाई को गैंगस्टर विकास दुबे ने सीओ समेत आठ पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी थी। इसके ठीक 8वें दिन विकास दुबे भी पुलिस की गोली का शिकार हुआ था। गुरुवार को जिला प्रशासन ने विकास दुबे की एक और पहचान भी मिटा दी। बिकरु गांव और पड़ोस के भीटी गांव के प्रधानों को उनके पद से हटा दिया गया। बिकरु गांव में बीते 25 सालों से विकास दुबे के छोटे भाई दीपक की पत्नी अंजलि दुबे प्रधान थी। विकास दुबे का गांव में आतंक इस कदर था कि अंजलि निर्विरोध चुनी गई थी, जबकि भीटी गांव में जिलेदार सिंह ग्राम प्रधान था। जिलेदार वर्तमान में जेल में है। उसे विकास दुबे की मेहरबानी से प्रधानी मिली थी।

कानपुर शूटआउट के बाद से बिकरु और भीटी गांव के प्रधानों ने पंचायत राज विभाग से संपर्क नहीं किया था। नोटिसों का जवाब भी दोनों प्रधानों की तरफ से नहीं दिया गया। जिसके चलते दोनों गांवों का विकास कार्य ठप था। विकास कार्य को आगे बढ़ाने के लिए इन गांवों में नए प्रधान नामित कर दिए गए हैं। बिकरु गांव में अंजलि दुबे को हटाकर रामश्री को कार्यवाहक प्रधान बनाया गया है, वहीं भीटी में जिलेदार को हटाकर विष्णु पाल सिंह को प्रधान का अधिकार सौंपा गया है।

गांव वालों का कहना है कि विकास दुबे का खौफ इस कदर था कि आसपास के 20 से अधिक गांवों में उसकी मर्जी से ही प्रधान चुने जाते थे। दबंगई के बल पर जिसे वह चाहता था, प्रधानी का सेहरा उसी के सिर बंधता था। बीते 25 सालों से बिकरु गांव में उसके परिवार या फिर उसके गिरोह के लोग ही ग्राम प्रधान बन रहे थे। बिकरु गांव से विकास और उसकी पत्नी ऋचा दुबे भी प्रधान रह चुकी है। वर्तमान में बिकरु गांव में उसकी बहू अंजलि प्रधान थी। लेकिन पूरी जिम्मेदारी धीरेंद्र दुबे उर्फ धीरू संभालता था। उसकी मर्जी के बगैर गांव में एक ईंट भी नहीं लग सकती थी।

कानपुर के चौबेपुर थाना के बिकरु गांव में 2 जुलाई की रात गैंगस्टर विकास दुबे और उसकी गैंग ने 8 पुलिसवालों की हत्या कर दी थी। अगली सुबह से ही यूपी पुलिस विकास गैंग के सफाए में जुट गई। 9 जुलाई को उज्जैन के महाकाल मंदिर से सरेंडर के अंदाज में विकास की गिरफ्तारी हुई थी। 10 जुलाई की सुबह कानपुर से 17 किमी पहले पुलिस ने विकास को एनकाउंटर में मार गिराया था। इस मामले में अब तक मुख्य आरोपी विकास दुबे समेत छह एनकाउंटर में मारे गए हैं।