बाराबंकी में सो रहे युवक की गला रेत कर हत्या

0
90

निशंक न्यूज।

बाराबंकी। उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले के गांव में छप्पर के नीचे वृद्ध के साथ सो रहे युवक की धारदार हथियार से गला रेत कर हत्या कर दी गई। सो रहे रतौंधी रोग से पीड़ित वृद्ध ने युवक को जागने का प्रयास किया। उसके न उठने और हाथ में खून लगने पर उसे अनहोनी की आशंका हुई। उसके शोर मचाने पर ग्रामीण  जुटे तो मौके पर युवक का खून से लथपथ शव देखा। सूचना पाकर मौके पर पुलिस को दी। घटनास्थल पर एएसपी उत्तरी व प्रभारी निरीक्षक मोहम्मदपुर खाला फॉरेंसिक टीम के साथ पहुंचे। वारदात रविवार की रात मोहम्मदपुर खाला थाना क्षेत्र के टपरा नहरवल गांव में हुई।

मोहम्मदपुर खाला थाना क्षेत्र के गांव टपरा नहरवल निवासी ननकू (35) पुत्र नारायण रविवार की रात गांव के ही बुजुर्ग जगदीश (60) के साथ सगे भाई रामदेव के घर के सामने छप्पर के नीचे सोया हुआ था। जगदीश को रतौंधी की शिकायत है। जिससे उसे रात में कुछ दिखाई नहीं देता। सोमवार की भोर करीब 4:00 बजे जगदीश की नींद खुली। उसने बिस्तर पर ही सो रहे ननकू को आवाज देकर जगाने की कोशिश की। लेकिन वह नहीं बोला, इस पर उसने उसे हिलाकर उठाने की कोशिश की। जिस पर उसे बिस्तर गीला लगा। अनहोनी की आशंका पर उसने शोर मचाया। जिससे ग्रामीणों की भीड़ जुट गई। वहां का नजारा देखकर लोगों की आंखें फटी रही। ननकू का खून से सना हुआ शव बिस्तर पर पड़ा था। उसका गला रेता गया था। इस सनसनीखेज वारदात ग्रामीणों में दहशत रही।

घटना की जानकारी होते ही प्रभारी निरीक्षक, मोहम्मदपुर खाला, मनोज कुमार शर्मा टीम के साथ घटनास्थल पर पहुंच गए। उन्होंने लोगों से पूछताछ की। इसी दौरान अपर पुलिस अधीक्षक उत्तरी आरएस गौतम भी पहुंचे और घटनास्थल का जायजा लिया। मौके पर बुलाई गई डाग स्क्वायड व फॉरेंसिक टीम ने मौके पर कई स्थानों से से से नमूने लिए।

ननकू शादी विवाह में नाच गाकर अपनी जीविका चलाता था। उसके साथ छतवारा गांव निवासी जगदीश ढोलक बजाने का काम करता था। जगदीश की एक ही बेटी थी। शादी के बाद वह अपने ससुराल चली गई। जिससे जगदीश अकेला हो गया था। इस दौरान जगदीश और ननकू के बीच घनिष्ठता और बढ़ गई और दोनों साथ में रहने लगे।

हत्यारों ने पूरी योजना से हत्या को अंजाम दिया। ननकू के बगल में ही जगदीश भी सो रहा था लेकिन उसे हत्या की जानकारी रात में नहीं हो सकी। अनुमान लगाया जा रहा है कि वारदात में एक से अधिक लोग शामिल थे।  हत्यारों ने उसे चीखने तक का मौका नहीं दिया और गला काटकर हत्या कर दी।

बेटी की शादी के बाद जगदीश अकेला हो गया था। जिससे वह ननकू के साथ रहने लगा। ग्रामीणों ने बताया कि जगदीश ने कुछ समय भी पहले अपने ढाई बीघा जमीन 6  लाख में बेची थी। जिसमें से 4 लाख उसने ननकू को दिए थे। ननकू इन पैसों से बाइक खरीदी थी और इन्हीं पैसों से मकान भी बनवा रहा था।

जगदीश ने अपनी बेटी रेखा की शादी फर्रुखाबाद के गांव राजपुर निवासी अर्जुन से की थी। जगदीश द्वारा 4 लाख ननकू को दिए जाने की जानकारी होने पर कुछ दिन पहले अर्जुन टपरा नहरवल गांव आया था। उसने अपने ससुर से पैसे दिए जाने के मामले पर ऐतराज भी जताया था। लोगों का अनुमान है कि इसी पैसे के चक्कर में ननकू की हत्या हुई है।