सीएम योगी ने लांच की बाल श्रमिक विद्या योजना

0
162

पहले चरण में 2000 बच्चों की शिक्षित करने के साथ उन्हें आर्थिक सहयोग देगी सरकार

बालकों को एक हजार और बालिकाओं को 12 सौ रुपए हर माह मिलेंगे

निशंक न्यूज।

लखनऊ। अंतरराष्ट्रीय बाल श्रम निषेध दिवस पर शुक्रवार को उत्तर प्रदेश सरकार ने बाल श्रमिक विद्या योजना की शुरुआत की है। पहले चरण में दो हजार बच्चों को चिन्हित किया गया है। योजना के तहत श्रम विभाग अब उनकी शिक्षा का पूरा खर्च उठाने के साथ उन्हें बाल श्रम से मुक्त कराएगा।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बाल श्रमिक विद्या योजना की शुरुआत अपने आवास से की। उन्होंने बताया कि, 8 से 18 वर्षों तक के सभी बच्चों को शिक्षा पाने के लिए स्कूल में होना चाहिए। लेकिन पारिवारिक परिस्थितियों के कारण अपने परिवार के भरण-पोषण के लिए उन्हें बाल श्रम करना पड़ता है। ऐसे बच्चों के लिए आज एक नई योजना ‘बाल श्रमिक विद्या योजना’ उत्तर प्रदेश में शुरु की जा रही है।

योजना में कक्षा 8, 9 और 10वीं कक्षा में पढ़ने वाले बच्चों को प्रति वर्ष 6000 रुपए की अतिरिक्त सहायता देने का प्रावधान भी दिया गया है। इस योजना में पहले चरण में जिन 57 जनपदों में सर्वाधिक बाल श्रम से जुड़े हुए कामकाजी बच्चे अब तक रिकॉर्ड किए गए हैं, वहां पर 2000 बच्चों का चयन करते हुए बालकों को 1000 रुपए प्रति माह और बालिकाओं को 1200 रुपए प्रति माह देने की व्यवस्था के साथ ये योजना लागू की जा रही है।

सीएम ने कहा- प्रत्येक बच्चा असीम संभावनाओं का प्रकाश-पुंज है। इन संभावनाओं में राष्ट्र के उज्ज्वल भविष्य की आभा है। एक सभ्य समाज के रूप में इन संभावनाओं को यथार्थ में परिवर्तित होने हेतु अनुकूल अवसर उपलब्ध कराना हमारा कर्तव्य है।