अलीगढ़ : काली नदी में फिर बढ़ा प्रदूषण

0
30

निशंक ब्यूरो

अलीगढ़,जिले से गुजर रही काली नदी का जल प्रदूषण जुलाई के बाद फि र से बढ़ गया है। जुलाई-अगस्त के बीच काली नदी के पानी की गुणवत्ता में कुछ सुधार आया था। नमामि गंगे योजना के तहत कराई गई जांच में सामने आया है कि मेरठ, हापुड़ व बुलंदशहर की औद्योगिक इकाईयों के गंदे पानी से नदी का पानी दूषित हो रहा है। काली नदी सहित गंगा की सहायक नदियों में मिलने वाले नालों के पानी में रंग एवं बीओडी-सीओडी की मात्रा अधिक पाई गई है
क्षेत्रीय प्रदूषण अधिकारी डॉ.जेपी सिंह ने बताया कि नमामि गंगे परियोजना के तहत काली नदी का पानी मानक से अधिक दूषित मिला है। अलीगढ़ में जाफ री ड्रेन यमुना और गंगा में मिलते हैं। इनकी महीने में चार दिन निगरानी कराई जा रही है। काली नदी के पानी नमूनों की जांच नदरई गेट कासगंज और अतरौली में की जाती है। नदरई गेट कासगंज में काली नदी का पीएच 7.4 है, जबकि यह 6.0 से नीचे होना चाहिए
बीओडी की मात्रा 34 व सीओडी की मात्रा 92 मिली लीटर तक पहुंच गई हैं। जबकि बीओडी व सीओडी 10 से अधिक नहीं होना चाहिए। पानी का रंग काला है। घुलित ऑक्सीजन की मात्रा तीन मिली लीटर पर पहुंच गई है, जो चार से नीचे नहीं जानी चाहिए। कासगंज ड्रेन, हनौथी ड्रेन, छेरत, लहटोई ड्रेन, अलीगढ़ ड्रेन, हाथरस ड्रेन के पानी के नमूनों की जांच की जा रही है। सभी जगह पानी काला है। घुलित ऑक्सीजन भी शून्य है।
शहर से गायब किशोरी मडराक में मिली
अलीगढ़। शहर के क्वार्सी इलाके से पांच दिन से गायब किशोरी मंगलवार रात को मडराक क्षेत्र के एक गांव के पास मिली। किशोरी सड़क से रोते हुए गुजर रही थी, तभी ग्रामीणों ने उसे रोका और पुलिस को सौंप दिया है। क्वार्सी थाना क्षेत्र के निजी चिकित्सकीय संस्थान में कंपाउंडर की 16 वर्षीय बेटी 18 नवंबर को कोचिंग जाने के बाद से लापता थी, जिसकी गुमशुदगी दर्ज कराई गई थी। इसमें पड़ोसी युवक को नामजद किया गया था। मंगलवार देर रात किशोरी ने बताया कि वह अपनी सहेली के साथ कोचिंग से लौट रही थी। सहेली बीच रास्ते से अपने घर चली गई। इसी बीच वैन सवार कुछ लोग उसे ले उठा कर गए थे। मडराक पुलिस ने किशोरी को क्वार्सी थाने भेज दिया है। दुष्कर्म की आशंका को देखते हुए किशोरी को मेडिकल परीक्षण के लिए क्वार्सी पुलिस की सुपुर्दगी में दिया गया है।